मुरथल घटनाक्रम का इतिहास

rsdhull निजी विचार Leave a Comment

हर एक व्यक्ति के जीवन में ऐसा समय आता है जब वह करवट लेता है और एक ऐसे कार्य में लग जाता है; ऐसा ही एक मामला था कथित मुरथल बलात्कार जिसने मुझे अंदर तक हिला कर रख दिया. इसलिए नहीं कि मैं मानता था कि महिलाओं के साथ बदसलूकी हुई है; अपितु इसलिए कि मेरा अपनी सम्पूर्ण निष्ठा से …

किसान का धर्म

rsdhull निजी विचार Leave a Comment

“हर खेत को पानी, हर हाथ को काम, हर तन को कपड़ा, हर सर को मकान, हर पेट को रोटी, बाकि बात खोटी” जननायक चौधरी देवी लाल जी के ये अमर वाक्य भारत में राजधर्म की असली मिसाल और पहचान है. आजादी के बाद भारत ने स्वयम को धर्मनिरपेक्ष, पंथनिरपेक्ष राष्ट्र के रूप में स्थापित किया. इसके बहुत से कारणों …