जनहित के नाम पर निजी हित साध रही सरकार

rsdhull Media Release Leave a Comment

जनहित के नाम पर निजी हित साध रही सरकार

Dated: 18.11.2017

चंडीगढ़/18 नवम्बर: इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता रविन्द्र सिंह ढुल ने यहाँ जारी अपने बयान में कहा कि हरियाणा सरकार अफसरों के दबाव में इस हद तक घिर गयी है कि उसने जनहित को धत्ता बताते हुए निजी हित के लिए काम करना शुरू कर दिया है. उन्होंने आगे कहा कि हरियाणा सरकार ने हाल ही में हरियाणा रियल एस्टेट (रेगुलेशन एंड डेवलपमेंट) रूल्स 2017 को नोटिफाई किया है. नोटिफिकेशन के रूल 18 के अनुसार चेयरमैन के लिए चीफ सेक्रेटरी के बराबर तनख्वाह का प्रावधान किया गया है. इसकी सेलेक्शन के लिए सरकार के द्वारा भ्रष्ट अधिकारीयों का पैनल बनाना हाल ही में चर्चा में था जब नेता प्रतिपक्ष श्री अभय सिंह चौटाला ने उस पर आपत्ति जताते हुए कहा था कि रोबर्ट वाड्रा को क्लीन चिट देने वाले अधिकारीयों को सरकार पैनल में रख रही है. उन्होंने कहा कि’ यह हैरानी वाली बात है कि चेयरमैन के पास चीफ सेक्रेटरी के बराबर तनख्वाह तो दे दी गयी है लेकिन अन्य निगमों अथवा अथॉरिटी की तरह उनकी तनख्वाह में से उनकी पेंशन को घटाने का प्रावधान नहीं किया गया है. ऐसे में चेयरमैन न केवल सरकार से तनख्वाह लेगा; अपितु वह सरकार से अपने लिए पेंशन भी लगातार लेता रहेगा. ज्ञातव्य है कि हरियाणा में चीफ सेक्रेटरी की कुल तनख्वाह 2,36,250/- है. जबकि रुल के अनुसार यदि अथॉरिटी का चेयरमैन सरकारी अधिकारी रहा है तो उसे 3,73,125/- रूपये के आस पास मासिक तनख्वाह मिलेगी जिसमें उसे मिल रही पेंशन, अन्य भत्ते भी शामिल हैं. यह हरियाणा इलेक्ट्रिसिटी रेगुलेटरी कमिशन, राज्य सूचना आयुक्त , हरियाणा लोकसेवा आयोग आदि अन्य बॉडीज से कहीं अधिक और यहाँ तक कि हरियाणा के मुख्यमंत्री की तनख्वाह से भी ज्यादा है. यही कारण है कि इस सरकारी लूट का फायदा उठाने के लिए अधिकारीगण इस पोस्ट को प्राप्त करने के लिए एडी चोटी का जोर लगा रहे हैं. आज तक के कांग्रेस और भाजपा सरकार के इतिहास को देखते हुए इस पोस्ट पर भी हमेशा की तरह किसी रिटायर्ड अधिकारी की ही नियुक्ति की जाएगी; यह बात सरकार के बनाये पैनल से स्पष्ट रूप से जाहिर भी होती है. इनेलो प्रवक्ता ने कहा कि सरकारी खजाने की यह लूट और रोबर्ट वाड्रा को क्लीन चिट देने वाले भ्रष्ट अधिकारियों का पैनल बनाना इस बात को साबित करता है कि हरियाणा भाजपा सरकार ने हरियाणा के सरकारी खजाने को लूट का अड्डा बना दिया है. उन्होंने कहा कि सरकार ने हरेरा को पहले ही आम जनता की जगह बिल्डर्ज के फायदे के अनुरूप बनाने का काम किया है; ऐसे में यह काम सरकार की इमानदारी की झूठी छवि पर एक और धब्बा लगाने का काम करेगा; जिसका जवाब आने वाले विधानसभा चुनावों में हरियाणा की जनता उन्हें दे देगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *