हरियाणा भाजपा के दो वर्ष एवं रोजगार

rsdhull निजी विचार Leave a Comment

कैसे रहे रोजगार के क्षेत्र में हरियाणा की भाजपा सरकार के दो वर्ष? जानिये कुछ इनपुट्स मेरे इस छोटे से लेख में. सुझाव आमंत्रित हैं.

हिन्दू विवाह अधिनियम की त्रुटियाँ

rsdhull निजी विचार, मुद्दे Leave a Comment

हिन्दू विवाह अधिनियम 1955 में बनाया गया वह कानून है जिसके बाद हिन्दू, सिख, बौद्ध एवं जैन धर्मों के विवाह, तलाक आदि को कोडीफाई कर दिया गया था. इससे पहले यह कानून कस्टम से चलता था और कस्टम के अनुसार बहुतेरी कमियां हमेशा से रही हैं. यदि हम हरियाणवी संस्कृति के अनुसार देखें तो हमें वहां बहुत सी कमियां मिलेंगी.

समान नागरिक संहिता

rsdhull निजी विचार, मुद्दे Leave a Comment

Uniform Civil Code अर्थात समान नागरिक संहिता एक ऐसा स्वप्न था जिसके अनुसार भारत के सभी नागरिकों को एक ही कानून से देखा जाये. जहाँ फौजदारी, संवैधानिक आदि कानून सभी नागरिकों पर एक समान लागू होते हैं तो वहीँ पर्सनल ला अर्थात निजी कानून जिनमें शादी, ब्याह, संपत्ति आदि शामिल हैं उन सब में व्यक्ति के ऊपर लागू कानून उनके धर्म के अनुसार तय किये जाते हैं.

Law of Sedition

rsdhull निजी विचार Leave a Comment

क्या है देशद्रोह की परिभाषा? क्या सोशल मीडिया पर सरकार के विरुद्ध लिखना अथवा बोलना देशद्रोह है. पढिये मेरा छोटा सा लेख. सरकारों को समझना चाहिए कि असहमति देशद्रोह नहीं; हालाँकि किसी को किसी के विरुद्ध गाली देने का कोई अधिकार नहीं.

Thanks for the kindest wishes

rsdhull निजी विचार Leave a Comment

आज मिले बधाई संदेशों से मैं अनुगृहित हूँ. यह प्रेम मेरे लिए नव चुनौती है कि किस प्रकार मैं आपके विश्वास पर खरा उतरूंगा.

आज सम्मान व सद्भावना दिवस में आये सभी बुजुर्गों, युवाओं और माताओं को धन्यवाद

rsdhull निजी विचार, राजनैतिक विश्लेष्ण Leave a Comment

प्रदेश के कोने कोने से लाखों की संख्या में स्व जननायक ताऊ देवीलाल जी के 103वें जन्मदिवस पर आज यहां करनाल में आयोजित सद्दभावना सम्मान दिवस समारोह में आए सभी बुज़ुर्गों व साथियों को प्रणाम करता हूँ, चरणवन्दन करता हूँ। बुज़ुर्गों व साथियों, आज यहां करनाल में हम सब देश में विकास की सोशल इंजीनियरिंग के जनक स्व जननायक ताऊ …

धर्म एवं राजनीति

rsdhull निजी विचार Leave a Comment

भारत का संविधान हमें स्वतंत्रता का मूल अधिकार देता है। संविधान के अनुच्छेद 21 के अनुसार, “किसी व्यक्ति को उसके प्राण अथवा दैहिक स्वतंत्रता से विधि द्वारा स्थापित प्रक्रिया के अनुसार ही वंचित किया जाएगा, अन्यथा नहीं।“ इस मूल अधिकार को माननीय उच्चतम न्यायालय ने अपने बहुत से निर्णयों में अति महत्त्वपूर्ण माना है एवं समय समय पर सरकार को …