“मिटटी का तन, मस्ती का मन, पलभर जीवन, मेरा परिचय!”

समाज, स्वतंत्रता, समाजवाद, पूंजीवाद, जातिवाद, धर्म एवं नास्तिक स्वभाव में सामजंस्य बनाने का प्रयास करता एक व्यक्ति. विचारधारा पूर्णतया समाजवादी लेकिन वैयक्तिक संघर्ष से आगे बढने वालों का पूर्ण समर्थन है. किसानों, कमेरे वर्ग एवं आदिवासियों के लिए कार्य करने का मन है. पर्यावरण संरक्षण से विशेष प्रेम है. जीवन एक छोटी सी कुटिया में बिताने का लक्ष्य है जहाँ वैचारिक साथी मंथन के लिए मिलें और सब मिल कर विश्व को समग्र रूप से आगे बढने के लिए प्रेरित करने का कार्य करें. सीमायें, जातियां, धर्म, रंग आदि आकर्षित नहीं करती लेकिन अपने पूर्वजों के किये कार्यों को आगे बढाना चाहता हूँ. जीवन की संक्षिप्तता पर भी पूरा भरोसा है और इसके वृहद आकार पर भी. किसी मान्यता अथवा प्रथा से बंधने का कोई भी और किसी भी प्रकार का इरादा नहीं लेकिन किसी मान्यता अथवा प्रथा का अपमान भी नहीं कर सकता.इस बीच स्वयम को खोजने का प्रयास जारी है.